Saturday, July 25, 2009

छिपा हुआ चाँद

आज चाँद पर हमें , बहुत प्यार है आया
क्योंकि ....चाँद में उनका दीदार है आया
जब उस चाँद को देखने हम छत पर आये ,
तो देखा की चाँद को भी है बादलों ने छुपाया ..........
एक तो उनकी याद में , पहले ही उदास थे हम ,
ऊपर से चाँद ने भी कर दिए , हम पर कितने सितम ....
की एक चाँद को देखने , चाँद के पास आये थे ...
सोचा की तेरी यादों के खजाने को लेंगे बाँट ........
लेकिन ये चाँद तो खुद अपने चकोर से मिलने को रहा ,था तरस .....................
जिसे बादलों ने खुद में छुपाया था।,
तब चाँद ने भी हवा को अपना संदेश सुनाया था ।
की जाकर छु ले मेरे दोस्त को तू सरहद के पार
और कह दे उसे की तेरा दोस्त कर रहा .........है तेरा इंतज़ार !

13 comments:

  1. सुंदर
    शुभकामनाओं के साथ स्वागत है हिंदी ब्लॉगजगत में

    ReplyDelete
  2. Vaah...kiski yaad mein doob kar likhi hai rachna......... par lajawaab hai..

    ReplyDelete
  3. तब चाँद ने भी हवा को अपना संदेश सुनाया था ।
    की जाकर छु ले मेरे दोस्त को तू सरहद के पार
    और कह दे उसे की तेरा दोस्त कर रहा .........है तेरा इंतज़ार !
    उत्कृष्ट लेखन ,आपमें कविता को लिखने की जो क्षमता है वह आपकी दूरदृष्टि की परिचायक है
    बधाई स्वीकारें

    ReplyDelete
  4. vrindaji gandhi

    आज चाँद पर हमें , बहुत प्यार है आया

    सुन्दर रचना!

    आभार/ मगल भावनाऐ

    हे! प्रभु यह तेरापन्थ
    मुम्बई-टाईगर

    SELECTION & COLLECTION

    ReplyDelete
  5. रचना के भाव अच्छे हैं वृंदा जी। मेरे हिसाब से कविता को काव्यात्मक रूप देने की कोशिश होनी चाहिए, जो निरन्तर लिखने से स्वतः हो जायगा। आपकी कविता पढ़कर अपना ही एक शेर याद आया-

    कब हमारे चाँदनी के बीच बदली आ गयी
    कुछ पलों तक चाँद का भी रूठना अच्छा लगा

    सादर
    श्यामल सुमन
    09955373288
    www.manoramsuman.blogspot.com
    shyamalsuman@gmail.com

    ReplyDelete
  6. very lovely poem! very nice. keep it up.

    ReplyDelete
  7. सूर्य-ग्रहण का अच्छा चित्र खीचा है आपने...
    बादलों के कारण नहीं देख पाए थे...

    मज़ाक है...पर कुछ तो है....

    ReplyDelete
  8. चाँद का तो काम ही कलाबाजियां करना

    ReplyDelete
  9. स्‍वागत है आपका हिन्‍दी ब्‍लाग जगत में.

    आपकी कवितायें चांद सी चमकती रहें, आपके गीत चकोर पाठकों के हृदय में गूंजती रहे.

    शंभकामनायें.

    ReplyDelete
  10. एक तो उनकी याद में , पहले ही उदास थे हम ,
    ऊपर से चाँद ने भी कर दिए , हम पर कितने सितम ....

    really nice, keep up the good work...

    ReplyDelete
  11. Sundar rachna...!
    Anek shubhkamnayen!

    http://shamasansmaran.blogspot.com

    http://lalitlekh.blogspot.com

    http://kavitasbyshama.blogspot.com

    http://aajtakyahantak-thelightbyalonelypath.blogspot.com

    http://shama-kahanee.blogspot.com

    http://shamabaagwaanee.blogspot.com

    ReplyDelete
  12. आज चाँद पर हमें , बहुत प्यार है आया
    क्योंकि ....चाँद में उनका दीदार है आया
    जब उस चाँद को देखने हम छत पर आये ,
    तो देखा की चाँद को भी है बादलों ने छुपाया
    Vrinda ji ,
    bahut khoobsurat panktiyan likhee hain apane .asha hai age bhee likhengee.
    Meree shubhkamnayen.
    HemantKumar

    ReplyDelete
  13. बहुत सुंदर…..आपके इस सुंदर से चिटठे के साथ आपका ब्‍लाग जगत में स्‍वागत है…..आशा है , आप अपनी प्रतिभा से हिन्‍दी चिटठा जगत को समृद्ध करने और हिन्‍दी पाठको को ज्ञान बांटने के साथ साथ खुद भी सफलता प्राप्‍त करेंगे …..हमारी शुभकामनाएं आपके साथ हैं।

    ReplyDelete